WWW.BRDSTUDY.ONLINE

Post Top Ad

>

Rbse Class 10th Social science Notes अध्याय 5 लोकतंत्र

 अध्याय 5 लोकतंत्र

लोकतंत्र का अर्थ:- लोकतंत्र का अंग्रेजी में डेमोक्रेसी कहते हैं अंग्रेजी शब्द डेमोक्रेसी ग्रीक भाषा के दो शब्द डेमोस तथा केटेरिया के सहयोग से मिलकर बना है। डेमोस का अर्थ भीड़ है किंतु आधुनिक काल में इसका अर्थ जनता से है और क्रेटिया का अर्थ है शक्ति इस प्रकार संपूर्ण डेमोक्रेसी शब्द का अर्थ है जनता की शक्ति या जनता की शक्ति पर आधारित शासन तंत्र।

  • आधुनिक काल में लोकतंत्र को केवल शासन का एक रूप माना जाता है।
  • लोकतंत्र एक ऐसा शब्द है जिसके अनेक अर्थ है और इसके साथ भावात्मक अर्थ भी जुड़ा हैं लोकतंत्र के वास्तविक अर्थ को समझने के लिए जरूरी है कि हम उसके विभिन्न रूपों से जुड़ी अवधारणा से परिचित हो।

लोकतंत्र के विभिन्न रूप

  1. राजनीतिक लोकतंत्र 
  2. सामाजिक लोकतंत्र 
  3. आर्थिक लोकतंत्र 
  4. नैतिक लोकतंत्र

लोकतांत्रिक शासन दो प्रकार का होता है 

  • प्रत्यक्ष तथा शुद्ध लोकतंत्र 
  • अप्रत्यक्ष तथा प्रतिनिधि लोकतंत्र 

उल्लेखनीय है कि आधुनिक युग में प्रतिनिधि लोकतंत्र के दो रूप हैं। 

  • संसदीय लोकतंत्र 
  • अध्यक्षात्मक लोकतंत्र

प्रत्यक्ष लोकतंत्र:- ऐसा लोकतंत्र जिसमें संपूर्ण जनता स्वयं प्रत्येक रूप से बिना कार्य बकाया प्रतिनिधियों का प्रयोग करती है इस प्रकार का लोकतंत्र स्विट्जरलैंड में पाया जाता है।

अप्रत्यक्ष लोकतंत्र:- आधुनिक काल में प्राय सभी लोकतांत्रिक राज्यों में अप्रत्यक्ष या प्रतिनिधि लोकतंत्र ही पाया जाता है इसके अंतर्गत जनता स्वयं प्रत्येक रूप से शासन की शक्ति का प्रयोग नहीं करती है अपितु अपने प्रतिनिधियों के माध्यम से प्रभुत्व शक्ति का प्रयोग करती है।

लोकतंत्र की प्रमुख विशेषताएं

1. जनता का शासन की एक प्रणाली के रूप में लोकतंत्र संपूर्ण जनता का शासन होता है जनता का अर्थ है संपूर्ण जन समूह एवं प्रत्येक व्यक्ति से हैं इस प्रकार यह किसी विशेष नस्ल भाषा संस्कृति आदि से संबंधित वर्ग का एक शासन नहीं है।

2. जनता द्वारा निर्मित शासन- लोकतंत्र में सरकार का निर्माण जनता द्वारा किया जाता है इसमें जनता अपने प्रतिनिधि चुनती हैं और ए प्रतिनिधि सरकार का निर्माण करते हैं।

3. लोकतंत्र शासन का एक साधन है साध्य नहीं- लोकतंत्र में शासन को कभी भी शादी है नहीं माना जाता है अपितु शासन को एक साधन माना जाता है।

4. जनता के प्रति उत्तरदायी शासन- लोकतंत्र में शासन प्रणाली लोक परबत्ता के सिद्धांत को स्वीकार की है अतः लोकतंत्र में शासन अपने कार्यों के लिए जनता के प्रति उत्तरदाई होता है इसका अर्थ है कि यदि सरकार व्यक्ति की स्वतंत्रता का चीनती हैं जनमत का सम्मान नहीं करती है अथवा सामाजिक हित में कार्य नहीं करती है तो उसे जनता बदल सकती है।

5. लोकतंत्र विकासशील साधन है- आधुनिक काल तक लोकतांत्रिक शासन प्रणाली विकास की नई अवस्था से गुजरी है प्रारंभ में यह व्यक्तिगत लोकतंत्र था जो बाद में उत्तरदाई लोकतंत्र में बदल गया और वर्तमान में यह लोकतंत्र कल्याणकारी राज्य की धारणा से संबंधित हो गया है।

सम्पूर्ण नोट्स 👇👇👇


No comments:

Post a comment

close