WWW.BRDSTUDY.ONLINE

Post Top Ad

>

University & College exam latest news today, UGC latest news

UGC Latest News: बदलेगा कॉलेज एग्जाम का पैटर्न? UGC ने दिए ये सुझाव

लॉकडाउन की वजह से छात्रों को पढ़ाई प्रभावित हुई है। इसे देखते हुए यूनिवर्सिटी ग्रांट्स कमिशन ने कॉलेज एग्जाम सिस्टम में कुछ बदलाव का सुझाव दिया है। जैसे छात्रों की मार्किंग इंटर्नल असेसमेंट के आधार पर करने को कहा गया है और परीक्षा की अवधि तीन घंटे से घटाकर 2 घंटे करने का सुझाव दिया गया है। वहीं, ज्यादातर यूनिवर्सिटी ऑनलाइन एग्जाम कराने पर विचार कर रहे हैं। कई यूनिवर्सिटियों ने इंटर्नल असेसमेंट के आधार पर रिजल्ट तय करने के सुझाव को गलत बताया है। बेंगलुरु यूनिवर्सिटी के वाइस चांसलर वेणुगोपाल के आर ने बताया कि इस तरह का असेसमेंट उचित नहीं होगा क्योंकि पहले के परफॉर्मेंस के आधार पर किसी की संभावनाओं का अंदाजा नहीं लगाया जा सकता है।





उन्होंने कहा, 'अगर स्थिति सही रही तो हम सामान्य तरीके से ही परीक्षा का आयोजन करेंगे। हम शहर में कई एग्जाम सेंटर बनाएंगे और कई शिफ्टों में परीक्षा होगी।' लेकिन अगर स्थिति सही नहीं हुई तो ऑनलाइन परीक्षा होगी। उन्होंने कहा, 'हम परीक्षा में मल्टिपल चॉइस क्वेस्चन का पैटर्न भी अपना सकते हैं। इससे परीक्षा कराना आसान होगा और उत्तरपुस्तिकाओं के मूल्यांकन में भी सहूलियत होगी।'



कब खुलेंगे कॉलेज?

इस महीने की शुरुआत में एक वेबिनार के माध्यम से केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री रमेश पोखरियाल 'निशंक' ने छात्रों को संबोधित किया था। एक छात्र ने एचआरडी मिनिस्टर से पूछा कि कॉलेज कब खुलेंगे। इस पर एचआरडी मिनिस्टर ने जवाब दिया कि यूजीसी कैलेंडर में कॉलेज एग्जाम 1 जुलाई से कराने और अगस्त में नया सत्र शुरू करने का सुझाव दिया गया है। इसका मतलब कॉलेज अगस्त से खुल सकते हैं।

UGC ने विश्वविद्यालयों को छात्रों की परेशानी दूर करने के लिए सेल गठित करने को कहा



विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने सभी विश्वविद्यालयों को निर्देश दिया है कि वह कोविड-19 महामारी की वजह से उपजी स्थिति के बाद परीक्षा और अन्य शैक्षणिक गतिविधियों के संबंध में विद्यार्थियों की परेशानियों को दूर करने के लिए एक प्रकोष्ठ (सेल) का गठन करें। आयोग ने छात्रों और शिक्षकों की समस्या से निपटने के लिए एक कार्य बल गठित किया है। यूजीसी ने पिछले महीने परीक्षा और शैक्षणिक कैलेंडर को लेकर दिशा-निर्देश जारी किए हैं।

यूजीसी के सचिव रजनीश जैन ने कहा कि पहले के दिशानिर्देश के अनुसार सभी विश्वविद्यालयों को सलाह दी गई है कि वह सभी पक्षों के हितों और सुरक्षा का ध्यान रखते हुए अपनी शैक्षणिक गतिविधियां तैयार करें। नए नियम और दिशा-निर्देश को लागू करने में सबसे ज्यादा प्राथमिकता स्वास्थ्य को दी जानी चाहिए।

जैन ने कहा कि यूजीसी की वेबसाइट पर छात्र अपनी समस्याएं दर्ज करा सकते हैं।
   
उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों, शिक्षकों और संस्थाओं की चिंताओं पर ध्यान देने के लिए यूजीसी ने कार्यबल गठित किया है।

नए शैक्षिक सत्र को बचाने में जुटा उच्च शिक्षा विभाग, कई विकल्पों पर चली रही चर्चा

आगागी जुलाई माह से शुरू होने वाले नए शैक्षिक सत्र को लेकर उच्च शिक्षा विभाग की चिंता बढ़ने लगी है। सत्र नियमित बनाए रखने के लिए नए-नए विकल्पों पर विचार भी होने लगा है। नए सत्र को छोटा करने के विकल्प पर भी चर्चा हो रही है। 



विभाग के अधिकारियों का कहना है कि बड़ी मुश्किल से सभी विश्वविद्यालयों का शैक्षिक सत्र पटरी पर आया था। पिछले तीन वर्षों से तो शैक्षिक कैलेंडर के अनुसार प्रवेश, पठन-पाठन, परीक्षाओं का आयोजन, परीक्षाफल की घोषणा और दीक्षांत समारोह तक होने लगा था। इस बार कोरोना संकट ने विश्वविद्यालयों के लिए शासन से जारी होने वाले शैक्षिक कैलेंडर पर ग्रहण लगा दिया।

पूरा अप्रैल माह बीतने को है लेकिन अभी तक ज्यादातर परीक्षाएं होनी शेष हैं। परीक्षाएं हो जाने के बाद उत्तर पुस्तिकाओं का मूल्यांकन और परीक्षाफल तैयार करने में समय लगेगा। ऐसे में इतना तो तय है कि नया शैक्षिक सत्र समय से शुरू नहीं हो पाएगा। परीक्षाओं के लिए नया मॉडल अपनाने की शासन की पहल पर सभी विश्वविद्यालय तैयारियों में जुटे हैं। हालांकि परीक्षाएं लॉक डाउन खत्म होने के बाद ही कराया जाना संभव हो सकेगा। विभाग को लॉक डाउन पर होने वाले फैसले का इंतजार है। फिलहाल तीन मई के बाद परीक्षाएं कराने की तैयारी चल रही है।

परीक्षा केंद्र पर कैमरे बंद, विश्ववद्यालय की परीक्षा में खेल शुरू

तीन स्तर पर चल रही मुख्य परीक्षाओं की ऑनलाइन मानीटरिंग के बीच भी परीक्षा केंद्रों ने नकल का रास्ता निकाल लिया है। नेटवर्क का बहाना बनाकर आधे घंटे के लिए पूरे सिस्टम को बंद कर केंद्र मनमानी कर रहे हैं।  ऐसा ही एक मामला शनिवार को शाहजहांपुर के विद्यादेवी महाविद्यालय का आया। क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी ने कंट्रोलरूम से सीसीटीवी बंद देखकर विवि को सूचित किया और खुद विवि चले आए। केंद्राध्यक्ष को तलब कर जमकर फटकार लगाते हुए स्पष्टीकरण मांगा गया है।  



पहली पाली में शाहजहांपुर के विद्यादेवी कॉलेज में चल रही परीक्षा के दौरान सीसीटीवी बंद हो गया। इस दौरान सीसीटीवी बंद देख क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी डॉ. राजेश प्रकाश ने परीक्षा नियंत्रक को सूचना दी। इस केंद्र पर आसपास मौजूद सचल दल को भेजने के लिए कहा। पिछले कई दिनों से केंद्रों पर नेटवर्क स्लो होने के नाम पर सीसीटीवी कैमरे बंद करने के खेल को देख रहे क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी ने इस मामले में काफी सख्ती दिखाई।

खुद थोड़ी देर में विवि पहुंच गए और विवि के कंट्रोलरूम में जाकर वहां से परीक्षा का हाल देखा। विद्यादेवी कॉलेज केंद्राध्यक्ष को तलब किया गया। दोनों अफसरों ने केंद्र के प्रतिनिधि से पूछताछ की तो उसने बताया कि नेटवर्क स्लो था। कॉलेज में सीसीटीवी कैमरे चल रहे हैं। क्षेत्रीय उच्च शिक्षा अधिकारी ने कहा कि यह बहाना है। अपना सिसटम दुरुस्त करें। ऐसा नहीं किया तो कार्रवाई के लिए तैयार रहें। इस मामले में नोटिस जारी किया गया है

No comments:

Post a comment

close